10 जुलाई 2016

अजनबी शहरों में भी हर यात्री अपने प्रिय कोने खोज लेता है |(निर्मल वर्मा )

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें