16 दिसंबर 2010

व्यतीत

एक बादल,शब्दों का
रास्ता भटक ,
घिर आया था  
अवछन्न आसमा पर ,
भीगीं संवेदनाएं ,
सराबोर होने तक
डूबी आकंठ, निर्दोषिता,
उग आये कुछ अर्थ
बेनाम रिश्तों के
शिराओं में
चमकता/बहता इन्द्रधनुष
समां सके जो तेरी आँखों में
बस इतना ही था आसमा मेरा !
मिटाना चाहती हूँ
छद्म के
उस इतिहास को मै ,
समय की पीठ पीछे
जो दुबका सा खड़ा है!


15 टिप्‍पणियां:

  1. चमकता/बहता इन्द्रधनुष
    समां सके जो तेरी आँखों में
    बस इतना ही था आसमा मेरा

    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट की चर्चा कल (18-12-2010 ) शनिवार के चर्चा मंच पर भी है ...अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव दे कर मार्गदर्शन करें ...आभार .

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बड़े ही सुन्दर विम्बों से सजी रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वंदना शुक्ला जी कविता का अंतिम हिस्सा करामाती है| अभिनंदन|

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगीता जी, वंदना जी पुनः स्वागत है आपका !चर्चा मंच पर कविता प्रकाशित करने के लिए आभारी हूँ
    धन्यवाद
    वंदना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सत्यम जी
    स्वागत है आपका ...बहुत धन्यवाद
    वंदना

    उत्तर देंहटाएं
  8. नवीन जी
    आपको कविता अच्छी लगी,जानकर अच्छा लगा
    आभार
    वंदना

    उत्तर देंहटाएं
  9. चमकता/बहता इन्द्रधनुष
    समां सके जो तेरी आँखों में
    बस इतना ही था आसमा मेरा !
    बहुत सुन्दर भाव और एहसास ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. मिटाना चाहती हूँ
    छद्म के
    उस इतिहास को मै ,
    समय की पीठ पीछे
    जो दुबका सा खड़ा है!

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक बादल, शब्दों का
    भीगी संवेदनायें
    वाह ! क्या बात है ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद
    वंदना

    उत्तर देंहटाएं