7 जून 2010

अनुभूति 2

वे सूखा पत्ता ,जो कभी,
विश्वसनीय हिस्सा हुआ करता था
उस विशालकाय पेड का
आज,गर्म हवाओं की साजिश ने
पतझड की आड ले
कर दिया बेरहमी से,ध्वस्त उसे
शाख से विलग
शायद इसलिये क्योंकि,मर चुका था उसमें,
हवा का रुख बदल देने का जज्बा,
या चुक गई थी ताकत,तूफान के आगे
बेखैाफ सीना ताने खडे रहने की
वक्त कोई रेलगाडी तो नहीं,
कि हर स्टेशन पर रुककर
प्रतीक्षा करेगी यात्री की
सूरज की लकीर से टिका और
आकाश से ठिठोली करता वो पेड
बेखबर सूखे पत्ते से,जो कभी
सहयात्री हुआ करता था
आज पडा है बेबस उदास,
उसी विशाल धने पेड के नीचे
उसी के आश्रय में
बिल्कुल अपरिचित सा
एक दिन उसे,एक परिंदे ने
हिस्सा बना
अपने धरोंदे का,
टांग दिया
कटोरेनुमा धोंसले की शक्ल में
बुजुर्गवार के एन मस्तक पर,
वहीं जहां कुछ रोज पहले
वसन्तोत्सव में
झूल झूम जाती थीं शाखे।
हवा के साथ,
अठख्ेालियां करती,
शाखों के संग सींकें,और
सींकों में टंका
वेा हरियाली पत्ता
ब्ूाढा पेड
मुस्कुरा रहा था
रुई के नरम फोहे जब
चहचहाते खोलेंगे नन्ही आंखें
उसकी गोद में
आशीष झरेंगे तब
उसकी सूनी आंखेंा से भी
हरी हो जाएगी जिंदगी फिर से
नहीं जानता
कि धेंासले का वक्त
गुजर जाने पर उड जायेंगे
जब विहग आकाश में
और सूने धोंसलों का अस्तित्व होता नहीं,बुढियाई सींकों
और सूखी पत्तियों से बेहतर

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत दमदार कविता है.
    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapka swagat hai hindi blog lekhan avam chitthajagat me ..........maa sarasvati aapki kalam ko tej pradan karen aise kamna h meri

    www.drvikastomar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. "नहीं जानता
    कि धेंासले का वक्त
    गुजर जाने पर उड जायेंगे
    जब विहग आकाश में
    और सूने धोंसलों का अस्तित्व होता नहीं,बुढियाई सींकों
    और सूखी पत्तियों से बेहतर"
    बात भी सच्ची और अच्छी लेकिन अंदाजे बयां लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  4. बुढियाई सींकों....!!! अद्भुत और अतुलनीय उपमा !!
    हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. sundar rachna..

    गाँधी जी का तीन बन्दर का सिद्धांत-एक नकारात्मक सिद्धांत http://bit.ly/b6I9y

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना है...
    http://merajawab.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया बात ...
    www.jugaali.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. pratibha ji
    sari bat soch ki hai nnhi jan chidiya ko slam jisne us ptte ko ek ni shkl di baki vkt pe kya joor hai .

    उत्तर देंहटाएं
  10. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  11. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरी प्रथम कविता लेखन के दुस्साहस को आपने न सिर्फ तरजीह दी बल्कि प्रोत्साहन भी दिया मै आपकी शुक्रगुजार हूं ।आशा करती हूं कि आपकी रचनाएं पढने का अवसर मिलता रहेगा
    वंदना

    उत्तर देंहटाएं
  13. वक्त कोई रेलगाडी तो नहीं,
    कि हर स्टेशन पर रुककर
    प्रतीक्षा करेगी यात्री की
    सूरज की लकीर से टिका और
    आकाश से ठिठोली करता वो पेड
    बेखबर सूखे पत्ते से,जो कभी
    सहयात्री हुआ करता था
    क्या सुंदर उपमा दी है , बहुत खूब, बहुत अच्छी कविता है,सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  14. aapne ise anubhuti naam diya hai kavitaye aksar kavi ki bhavna se utprerit hoti hai wahi samne wale le dil ko chu pati hai aap jo kahna chah rahi hai aur unke piche ke aapke bhav gahre hai par kya aap jab kavita nahi likhti us waqt bhi aapke man main aise hi bhav rahte hai ? deepak17480@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं