14 मई 2011

समय



--  हाँ ,मै समय हूँ ......!

ज्ञात -परिधि से मुक्त
संवेदन हीन,तटस्थ ,निर्मोह  
दंभ की कुटिल जिज्ञासा वश   
 मुझे शब्द बना 
कैद कर  दिया गया 
गूढ़ किताबों के अँधेरे प्रष्टों में  
मान लिया गया /कि मुझे समेट लिया गया है
ज्ञानियों ने  मुट्ठी में 
जो अपनी विजय पताका लहराते
लद गए स्वयं मेरी ही पीठ पर
 बेताल कि तरह  
 भ्रमों के धुंध से पट गई सभ्यता
असंख्य दर्शन खोदकर
गढ़ ली गईं परिभाषाएं
निकाल लिए गए चंद गुण-दोष
ईजाद कर ली गईं कुछ कथाएं ,परिकल्पनाएं
 अन्धों के हाथी की पूँछ पकड़ |
कुछ सुबह के कन्धों पर चढ ,
खींचते रहे रात की तस्वीरें
शेष रौशनी से पीठ किये
बांचते रहे अँधेरे!
बुद्धि को बिठा दिया गया पहरे पे मेरे
ढोती रहीं पीढियां किस्से 
मै खेलता रहा अपने खेल
वो जिल्द बदलते रहे पुस्तक की 
और चुकाते रहे मूल्य
पढ़े जाने की जिद का |

15 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ सुबह के कन्धों पर चढ ,
    खींचते रहे रात की तस्वीरें
    शेष रौशनी से पीठ किये
    बांचते रहे अँधेरे!
    बहुत ही सुंदर ढंग से आपने समय की व्यापकता, शक्ति और समय के रहस्य को प्रस्तुत किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (16-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. समय बड़ा बलवान. समय की सत्ता के आगे नतमस्तक.

    खूब लिखा है आपने. आपके ब्लॉग पर पहली बार आया हूँ और आपकी रचनाएँ सचमुच मन को छूती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मनोज जी,इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है !इस प्रोत्साहन के किये हार्दिक धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत शुक्रिया इस हौसलाअफजाई के लिए रश्मि जी !:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.
    आप बहुत अच्छा लिखती हैं और गहरा भी.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 17/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. पहली बार आपको पढ़ा ,बहुत अच्छा लगा .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! वाह! सुन्दर चिंतन....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं